Ads

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है true motivational stories with moral  के बारे मे हमे यकिन है। true motivational stories बहुत पसंद आयेगा |short motivational story in hindi




true motivational stories with moral in hindi

एक लड़की बहुत समय के बाद आपने गांव पापा और मां के साथ आई थी । उसे बहुत समय शहेर में रहते हुवे निकाल दीये थे । उसे गांव में कोई नहीं पहचानता था । इस लीये वो अपने दादाजी के पास बैथी रहती थी और काहानी सुना करती थी ।

लड़की ने दादाजी को कहा मुझे सफलता और चुनौती के बारे में कुच एसी बाते बताये ताकी में अपने जीवन में कामीयाबी पा सकु । दादाजी ने कहा मेरे साथ चालो में तुम्हे कुच दिखाता हु । दादाजी उस लड़की को एक माली की दुकान पे ले गये और दो पौधे घरीदे । पौधे लेके अब घर आजाते है ।  

दादाजी ने एक पौधे को घर के अंदर लगाया और दुसरा पौधा घर के बाहार लगाया । दादाजी उस लड़की को पुछते है कौनसा पौधा ज्यादा निखरेगा और कौनसा पौधा आगे बडेगा । उस लड़की ने तुरंत कहा की घर में जो पौधा लगाया है वो ज्यादा मेहफुज है क्यु की उसे ताप नहीं लगेगा उसे पानी भी नहीं लगेगा उसे पवन भी नहीं लगेगा और बाहार वाले पौधे को गाय या बकरी खा सकती है उसे कोई कितानु भी लग सकते है ।  



वो लड़की अपनी स्कूल की छुट्टीया खतम हो जाने के बाद वो तुरंत शहेर में चली जाती है । वो लड़की अब काफी समय के बाद फिर से गांव में आती है उसे 5 साल के बाद वो गांव में आती है । वो अपने दादाजी के पास जाती है और कहती है दादाजी इस बार मुझे सफलता और चुनौती के बारे में कुच ना कुच तो बाताना पडेगा । उस बार तो आपने मुझे आपने कोई बात नहीं बताई थी लेकिन इस बार बताना होगा ।

दादाजी ने कहा बेटा तुम्हे याद है हम जो पौधे लाये थे । लड़की ने कहा हाँ मेंने कहा था नी घर में जो पौधा है वो अच्छी तरंहा रहेगा । दादाजी ने कहा लेकिन घर के बाहर भी तो देखो । लड़की ने सोच में पड गई यह कैसे हुवा इतना बडा पेड़ । तब दादाजी ने कहा बेटा तुम्हे पता है बहार वाला इतना बड़ा पेड़ कैसे बना । क्यु की इस पौधे ने दिक्कत और परेशानी का सामना कीया है । मुश्कील से मुश्कील परिस्थिती का सामना कीया है । इस लीये यह पेड़ बड़ा है । घर में जो पेड़ है उसने कोई परेशानी नहीं देखी । उसकी जडे कही नहीं फेली है बस चार दीवाल के बिच में फसी रही है । इस लीये आज यह पेड़ येसा है और बहार वाला पेड़ ज्यादा मज्बूत है ।

लड़की को एक बडी सिख मिली जिवान में आगे बडना है तो परेशानी का सामना करना पडेगा । हमे मुसीबत को जेलना होगा । हमे द्तकर रहना होगा और हमे अपना काम करना होगा ।

   

Moral :- जिवान में चाहे कितनी भी परेशानी क्यु ना आये हमे पिछे नहीं हतना है । उसका समना करना है उसे लडना है । चाहे हम हार जाये लेकिन उस हार में हमारी जित छुपी हुवी है । हमे जित ने के लीये हर दीन हार को जेलना है उस का मुकाब्ला करना होगा । तब जाके हमे जित मिल सकती है ।




मोटिवेशनल कहानी छोटी सी


एक गाँव मे एक बंदर रहता था वो अपने बच्चो के साथ बहुत खुश था लेकिन एक दिन ऐसा हुवा की बंदर का एक बच्चा किसी अक्समत मे मौत हो गई। वो बहुत उदास हो गया। 

बंदर ने पूरे गाँव मे हा हा कार मचा दिया। सभी को वो परेशान करने लगा रास्ते मे जो कोई दिखे उसे पत्थर मारता था उन लोगो के पीछे भागता था। 

सभी को घर मे रहने को मजबूर करके रख दिया था। सभी लोग बंदर के डर से घर के बाहर निकल ने से भी डरते थे। किसी की हिम्मत नही होती थी घर से बाहर निकले। 

कोई घर से बाहर नही निकलता था इस लिये बंदर अपने बच्चो को लेके दूसरे गाँव मे चला गया। बंदर भी समाज गया था की अपने बच्चे इस जगह पे सेफ नही है। 

बंदर अब दूसरे गाँव मे सेफ महसूस करने लगा और वही पे रहने का निर्यण लिया। 



motivational stories with moral 

एक राजा था वो भगवान की पूजा हर दिन करता था। राजा पूरी निष्ट्रा के साथ पूजा करता रहता था इस लिए भगवान खुद प्रसान हुवे। राजा ने भगवान की पूजा किया भगवान ने राजा को कहा तुम्हे क्या चाहिये मुझे बताओ। 

तब राजा ने कहा भगवान आप मेरी प्रजा को भी आपके दर्शन दो । भगवान ने कहा ऐसा नही हो सकता है मे केवल तुम्हे ही दर्शन दे सकता हु। तब राजा ने कहा आप मुझे कुछ देना चाहते है तो आप मेरी प्रजा के सामने आये। भगवान ने कहा कल तुम अपनी प्रजा को लेके पहाड़ी के नीचे आ जाना मे वही पे खडा मिलुगा। 

राजा ने यह ढिंढोरा पूरे गाँव मे फेला दिया कल आपको भगवान दर्शन देने वाले है इस लिये आपको मेरे साथ आना होगा। 

दूसरे दिन राजा अपनी प्रजा को लेके निकल पड़ा पहाड़ी की और। रास्ते मे एक बड़ा सा पैसे का पहाड़ दिखा कुछ प्रजा वो लेने के लिये चली गयी और जितना हो सके वो उठाके ले जाने लगी पहले पैसे एकठे कर लिया जाये बाद मे भगवान से मिलते है। 

राजा बची हुवी प्रजा को लेके आगे बड़ रहा था तब रास्ते मे चाडी के सिक्के का पहाड़ दिखा कुछ प्रजा वो लेने के लिये चली गई। सिक्के उठाने लगे। राजा अब बचे हुवे सिपाही को लेके आगे बड़ ने लगा। रास्ते मे सोने का पहाड़ दिखा। जो बचे हुवे थे प्रजा वो वहा चले गये। राजा के अधिकारी-सिपाही सब लोग चले गये। अब केवल राजा और रानी बचे हुवे थे। 

राजा ने कहा पैसे से बड़कर भागवाँन है तो क्यु सब लोग पैसे के पीछे भाग रहे है। रानी कहती है मे आपका साथ कभी नही छोड़ुगी। राजा और रानी वो दोनो आगे बड़ ने लगे रास्ते मे हीरे का पहाड़ दिखा रानी तुरंत दोड़ती हुवी चली गई और जो हो सके उतना उठाने लगी। 

राजा केवल अकेला रह गया वो धीरे धीरे आगे बढ़ने लगा। पहाड़ी पे भगवान खुद खड़े हुवे थे। राजा अपना शिर नीचे झुकाये खडा हो गया। भगवान ने तुरंत राजा को पूजा कहा है आपकी प्रजा कोई नही दिखाई देता है ना कहा गये सब लोग। 

तब भगवान ने राजा को बताया सच्चे मंन से कोई नही पूजा करता। केवल जरूरत पड़ने पर पूजा करते है। मे केवल सच्चे लोगो को ही दिक्कता हु। 



true motivational stories in hindi 

एक आदमी अपने आप पे बहुत चीड़ सी होने लगती है। उसने बहुत सी गलती किया था उस ने सोचा की मे भगवान के सामने इस गलती कि समा मांगु। काश समा मांगने से मुझे भागावाँन माफ करदे और मेरी गलती कम हो। मंदीर मे समा मांगते समय कोई ना देखे इस तरीके से जानेका सोचा। 
दूसरे दिन वहली सुभह मे वो आदमी मंदीर मे जाता है। लेकिन उसे भी पहले दूसरा आदमी वहा पे मोजूद था। वो आदमी अपनी गलतीया भागवाँन के सामने स्वीकार कर रहा था। उसने अपने जीवन मे बहुत सारी गलती किया था वो सब भागावाँन के सामने कहा। 
वो आदमी उसे अपनी गलती को स्वीकार करते देखते हुवे उस का मन भावुक सा हो जाता है और उसके प्रति श्रधा उमड़ आती है। वो आदमी उस के नजदीक जाके देखता है वो गाँव का एक धनी आदमी था। 
वो धनी आदमी कहता है आप ने मेरी और भगवान के बीच मे जो बात हुवी वो तो नही सुनिना। तव वो आदमी कहता है मैने सारी बात सुन लिया है मुझे तुम्हारे भवनातमंक सभाव देखते हुवे बहुत खुशी मिली। 
धनी आदमी कहता है लेकिन यह बात मेरे और भागवाँन के बिच मे थी आपको यह नही सुन्ना था। वो आदमी ने कहा लेकिन मे यह बात किसी और को नही बताऊगा। आपने जो भागवाँन के सामने जो गलतीयां स्वीकार किया है वो मुझे बहुत अच्छा लगा। यह काम मेभी करने यहां पे यहा हु। मे मेरी सारी गलतीयां स्वीकार करने के लिये आया हु। 
यह बात से पता चलता है की किसी ने किसी तरहा की गलतीयां किया है और सभी लोगो गलतिया सुधार ने का प्रयास कर रहे है। 



प्रेरणादायक कहानी छोटी सी


एक लड़का बहुत गरीब था वो चलते चलते सड़क के किनारे से कचरा उठा रहा था। उस ने देखा एक लड़की मोबाइल को एक स्ट्रिक से जोड़ के उपर उठा कर फोटो ले रही है और अलग अलग एक्सन से फोटो खिच रही है। वो लडका भी उस लड़की को देखके एक्सन कर रहा था। 
वो लड़का अपने घर आके जो माँ कचरे की थैली लाई थी उस मे से चंपल निकाला और एक लकड़ी की मदद से स्ट्रिक जैसा बना दिया और फोटो खिचने लगा। लड़का अपनी माँ को भी कहता है माँ मेरी साथ ऐसी एक्सन करके फोटो खिचवावो ना मां भी बेटे का दिल रखने के लिये एक्सन मे फोटो खिचवाती है। 
अब रात को उस लड़के को नींद नही आती है वो माँ को कहता है मुझे फोटो खिचवान है। दूसरे दिन माँ ने अपना बेटे खो जाने की एकटीन करे पॉलिस स्टेशन मे चली गई वहा जाके पोलिस को कहती है मेरा लड़का खो गया है बिल कुल इस तरहासे दिखाता है। 
पॉलिस ने उस लड़के की फोटो खीची और माँ ने कहा मेरे पास इस की कोई तस्वीर नही है आप मुझे भी दीजिये ताकि मे भी ढुंढ पावु। अब माँ और बेटे तस्वीर लेके घर आगये और बेटा तस्वीर देखते हुवे बहुत खुश हो जाता है। 
माँ ने अपने बेटे की खावहिस् पूरी करने के लिये झूठ बोलना पड़ा। 



दोस्तो मुजे यकिन है कि true motivational stories in hindi आपको पसंद आयि होगि । यह motivational stories with moral आपको कोइ भुल करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंट करके बाताये और आपको कहनिया सोच बदलने वाली कहानी लिखने का पसंद हो तो real life inspirational stories of success ईमैल कर सकते हो |

inspiring short stories on positive attitude

real life inspiring stories that touched heart

और नया पुराने

Display ads