Ads

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है motivational short story in hindi के बारे मे हमे यकिन है। best motivational story in hindi बहुत पसंद आयेगा | motivational story in hindi

motivational short story in hindi

motivational story in hindi


जिवन में किसी ना किसी को एक फेसला लेना पडता है । चाहे वो अपने केरीयल के लीये हो या अपने दुखो मेसे आगे बडने के लीये । येसी ही एक कहाँनी है जो करुण मां ने फ्रेसला अपने जिवन में लीया है ।


मां गर्भवती थी डोक्टर अपना बेस्ट मेसे बेस्ट कोशिश कर रहे थे । मां और बच्चे को बचाने के लीये । पुरा दीन निकल गया लेकिन आखीर में डोक्टर किसी एक को बचा सक्ता है । मां को बचाता है तो बच्चा मार जाता है । बच्चे को बचाता है तो मां मर जाती है ।

डोक्टर यह फेस्ला मां पे छोड देते है मां को कहते है हम क्या करे आप ही हमे रास्ता दिखा सक्ते है । मां बिना सोचे डोक्टर को कहा मेरे बच्चे को बचाये मेंने तो मेरा जिवान जी लीया है । अब मेरा बच्चा जीयेगा ।

डोक्टर ने मां की बात सुनके हेरान से हो गये । अब डोक्टर ने बच्चे को बचाया । जैसे ही बच्चा मां के पेट से बहार आता है तो वो तुरत रोने लगता है। डोक्टर ने तुरत बच्चे को मां की ग़ोडी में रख देते है ।

वहाँ बच्चा रो रहा था । मां अपने अंतीम पलो में बच्चे को किस्सी कर रही थी । दुसरी जगह मां की करुणा देखते हुवे डोक्टर की आंखो नम हो रही थी। बच्चे ने मां की अंतीम पालो में मां का हाथ थाम लीया । मां को अब सुकुन मिला । अपने अंतीम पलो में बच्चे ने मेरा हाथ थामा । मां अपने बच्चे को गले लगाके इस दुनीया से अलवीदा कहती है । बच्चा जोर जोर से रोने लगता है ।

डोक्टर ने तुरत उस बच्चे को उथा लीया और उसे वहाँ से दुसरी जगह पे ले गये । पुरा सन्नाता छा गया थोडी देर तक उस जगह पे केवल बच्चे की आवाज गुज्ती रही ।

 

जिवान में किसी ना कीसी को एक फेस्ला लेना पडता है वो चाहे गलत हो या सही । जब तक फेस्ला नहीं लेते तब तक हम वही उलजे रहते है । उस परिस्थिति से हम बाहर नहीं निकल पाते है । हम डरे डरे रहते है अपने आपको हम अंधेरे में दालते जाते है । हम खुद हमारा जिवान को आगे बडने से रोक रहे होते है ।

जिवान में हमे एक फेस्ला लेना जरुरी है उस फेस्ले से हमे काफी कुच सिखने को मिलता है । 




motivational short story in hindi

जंगल का शेर सभी को डरा के रखता है। सब लोग उस से डरते थे। एक दिन शहेर का राजा हाथी पे आसान लगाके बैठ के जंगल मे गुम रहा था। शेर ने उस राजा को हाथी पे बैठ हुवे देखता है। शेर को भी हाथी पे आसान लगाके बैठ ने की ईशा हुवी। 

शेर ने जंगल मे सभी को आदेश दिया मुझे भी हाथी पे बैठ ना है मेरे लिये हाथी पे आसान लगावो। आसान लगाने के बाद शेर छल्लांग लागाके बैठ जाता है। 

थोड़ी देर के बाद हाथी अपनी पिट को हिल्लाता है शेर का आसान सरक जाने के कारण शेर नीचे गिर जाता है। शेर की हड्डी टूट जाती है। उस वक़्त शेर को पता चला जिस का काम उसे ही सजे। 


हमे अपने आप पे ज्यादा घमंड नही दिखाना चाहिये। नही तो वोही घमंड हमे नीचे गिरा देता है हमारी असली औकात हमे दिखाता है। हम कितने पानी मे हमे वो दिखाता है। 



motivational story in 100 words  

आज यह कहाँनी है जिवन के बारे में चाहे हमारी परिस्थिति कैसी भी हो बुरी हो या खाराब लेकिन हमे उस परिस्थिति का सामना करने के लीये हमारे साथ कोई ना कोई खदा हो ही जाता है । यह कहाँनी है दो शिपाही की दोनो ने मिल के एक दुसरे की जान बचाई ।

एक जंग में एक शिपाही बहुत गभीर तरिके से घयाल हुवा था । दो शिपाही बचे हुवे थे सम्ने से दुशमन की टोली आ रही थी । दुसरे शिपाही की बहुत गंभीर हालत थी वो उथ नहीं पा रहा था । लेकीन शिपाही के दोस्त ने हिम्म्त जुत्ताते हुवे पास पहुच गया ।   

गंभीर हालत में अपने दोस्त को देखता है उस की आंखे नमी सी हो जाती है । वो तुरंत मिट्टी के धेर में अपने दोस्त को छुपा देता है और खुद दुसरे की लास अपने उपर बिचा लेता है ।

दुशमनकी टोली वहाँ से निकली सभी लासो पे छुरीया चलाते हुवे निकली । दोनो शिपाही भग्वान से दुवा कर रहे थे मेरे दोस्त को बचा लिजिये । दोनो ने अपने बारे मे ना सोचा । अपनी दोस्ती के बारे में पहचे सोचा । दुशमनकी टोली छुरी लगते हुवे निकल गई अगे । दोनो दोस्त आपनी जान बचा ने में कामीयाब हुवे ।

दोस्तो हमेशा यह बात याद रखना जिवान में हमे किसी ना किसी परिस्थिर्ति में कोइ ना कोई मदद करने के लीये आही जाता है । चाहे हमारे पास खुशी हो या मुसीबात लेकिन हमे हमारे दोस्त उस परिस्थिति में हमारा साथ देने के लीये आ ही जाते है । हमे हमरा काम सच्ची निष्ट्रा से करना चाहीये । 



बुद्धि ही बल है पर कहानी short story

एक किशान अपनी गाय के साथ खेत में काम कर रहा था। दीन भार काम करने के बाद । गाय थक गई थी । इस लीये गाय सोचती थी की आब में कोई भार उचक नहीं पावुगी । लेकिन किशान दुसरी गाय के लीये चारा ले जाने वाला था । किशान उस चारे को गाय के उपर बांध दीया ।

लेकिन गाय चल नहीं पाती थी किशान सोच में पड गाया आब में क्या करु साम हो ने को आई है और ये गाय चारा उथा नहीं पाती है । किशान ने थोदी देर तक सोच ने के बाद उसने गाय के साथ हल बांध दीया और हल पे चारा बांध दीया ।

गाय सोचती है चारा मेरे उपर से उतार लीया है । और चारा से हलकी चिज दो लकडी बांध दीया है । आब में आसानी चल पावुगी । लेकिन चारा उपर था तब भी यही वजन था और निचे है तब भी यही वजन है ।यह बुद्धि किशान ने लगाई और गाय ने बल गया । किशान को पता था गाय इतना सोच नहीं पायेगी इस लीये यही वजन में दुसरे तरीके से लगा देता हु ।

दोनो इस तरहा घर लोट आते है । वो गाय बहुत खुश दीखाई देती है सभी को कहती है आज मेरे से वजन नहीं उथ्वाया गया है । में बिना वजन उथाये आयी हु । दुसरी गाय समज गई किशान ने गाय पे वजन ना रखके हल पे वजन रख दीया था । जो वजन पहले था उस से दो गुना वजन गाय से उथवाया है । सभी गाय मुस्कुराने लगी और उस गाई को साबासी देने लगे ।

जिवान में हमेशा किसी भी जिचो में बल का सहारा लेना जरुरी नहीं है । जया बल का प्रयोग लगे वही पे आप को बल का प्रयोग दिखाना है । जिस जगह बुद्धि का प्रयोग करना है उस जगह बुध्धी का प्रयोग करना है।

चतुराई से कीया हुवा काम हमेशा सा के लीये सफल बनता है । इस लीये हमे बल दिखाने से पहले बुद्धि का इस्तेमाल जरुर कर लेना चाहीये ।

 


दोस्तो मुजे यकिन है कि Short Motivational Story In Hindi With Moral आपको पसंद आयि होगि । यह Short Motivational Story आपको कोइ भुल करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंट करके बाताये और आपको कहनिया Short hindi motivational story लिखने का पसंद हो तो Moral of this hindi motivational story  ईमैल कर सकते हो | Hindi motivational story

और नया पुराने

Display ads