Ads

दोस्तो आज हम इस पोस्ट मे आपको story of two best friends in hindi के बारे मे बताने जा रहे है। best friend story in hindi बहुत पंसद् आएगाMoral stories for kids

Moral story


 two best friends story in hindi

 
एक दिन की बात है दो दोस्त घर के सामने खेल रहे थे। खेल खेल मे बहुत समय हो गया था। राम की माँ ने राम को खाने के लिए आवाज लगती है। राम ने अपने दोस्त को कहा तुम्ह भी अपने घर खाना खा के आव उसके बाद हम फिर से खेलते है। 
रामु राम से कहता है क्या पता मेरे घर खाना बना है या नही। मेरी माँ दो दिनो से बीमार है। हमने कल साम भी खाना नही खाया था। राम ने अपने दोस्त की यह बात सुनके रामु को अपने घर ले जाता है। 

राम ने अपनी माँ को रामु की परेशानी बताता है। माँ ने राम को कहा बेटा अपने दोस्त की तुम्हे मदद कारनी चाहीये। राम ने अपनी माँ को कहा अभी तो मे बहुत छोता हु। माँ ने राम से कहा बेटा तुम्ह दोनो अभी खाना खालो बाद मे तुम्हे मे सारी बात कहती हु। 

रामु और राम दोनो दोस्त खाना खाने लागते है। खाना खाने के बाद राम कि माँ ने एक डब्बे मे खाना भर दिया और राम को कहा। अपने दोस्त के साथ घर जाव और जाते समय रास्ते मे से दवाई लेके जान। 





दोनो दोस्त अब चलते जाते है। राम आगे चलता है और रामु पिछे चलता है। तब राम ने अपने दोस्त को कहा चलो चलो। क्यु धीमे धीमे चल रहे हो। क्या सोच रहे हो तब रामु ने अपने दोस्त को कहा तुम्ह मेरे साथ पहली बार मेरे घर आ रहे हो। लेकिन मेरे घर मे तुम्हे खिलाने के लिये कुच नही है। 

राम ने कहा अरे मेरे दोस्त ये खाना और ये दवाई तुम्हारी माँ के लिये है। मुझे कुच नही खाना है। रामु ने कहा लेकिन मेरे घर मे तुम्हे बिठा ने के लिये चेयर नही है। राम ने कहा मेरे दोस्त मेरी चिंता मत करो।

दोनो घर पाहुच जाते है रामु ने अपनी माँ को खाना दिया और खाना खा ने बाद माँ को दवा पिलाई। राम ने कहा मेरी माँ ने कहा है आप अच्छी तरहा से ठीक हो जाव और हर दिन मे खाना आपके लिये लाया करुगा। 

रामु की माँ देखते हि देखते कुछ हि समय मे ठीक हो गई। रामु कि माँ रामु के साथ राम के घर आयी और राम की माँ को धनियवाद किया। राम की माँ ने कहा ये दोनो दोस्त की कहानी है हम बडे साथ नहीं देगे तो कम जोर हो जाएगी। इस लिये हमे भी इस दोस्ती का हिस्सा बनना है। 

Moral: सच्चे दोस्त यही होते है जो मुशिबत के साथ काम आये।

           चाई के संग दोस्त || friend story



कही दोस्त एक साथ मिलके दुकान मे चा पीने के लिये जाते है। सब आपस मे बात कर रहे थे। उस मेसे एक की नजर पास मे बैठे एक व्यक्ति पे पड़ी। वो व्यक्ति अंधा था उसे दिखाई नही देता था। कब से वो दुकान के बहार बैठा हुवा था। 
सभी दोस्त आपस मे बात करते है वो व्यक्ति कब से बैठा है। हमने उसके बाद चाई का ऑदर दिया है। हमारा पहले आगया और उस का क्यु नही आया अभी तक। तब एक दोस्त उस अंधे व्यक्ति के पास जाता हैं। 
उस अंधे व्यक्ति को कहता है अपने कुछ ओडर किया है। तब वो अंधा व्यक्ति कहता है मुझे पता नही है चा कहा लेने के लिये जाना है। 
तब वो दोस्तो ने उस अंधे व्यक्ति के लिये च मनवाई। उस दोस्तो उस चा के पैसे खुद ने दिये। चा पीने के बाद सभी एक साथ मिलके बात करने लगे। अब सभी दोस्तो ने उस अंधे व्यक्ति से दोस्ती कर लिया। अब हर रोज सभी साथ मे मिलके चा पीने के लिए आते है। 

Moral stories:- आज भी इंशानियात् जिंदा है। किसी ना किसी रूप मे मदद करने के लिये कोई आ ही जाता है। 

best friend story in hindi


जंगल मे जिराफ और शेर दोनो लड़ रहे थे। दोनो के बीच मे बहुत कहा सुनी हो गई है। शेर जिराफ को मार ने वाला था जिराफ शेर से अपना जीव बचा ने के लिये लग गया। 
जिराफ ने शेर से बहुत लड़ा लेकिन वो अब थक चुका था। अब उस ने हार मान लिया था। उस ने सोचा मे अब मर जाऊगा। यह शेर मुझे मार डालेगा। 
उस वक़्त वहा पे दोड़ते हुवे दूसरा जिराफ आ जाता है। वो जिराफ अपने दोस्त को बचाने के लिये आ जाता है। उस शेर से अपने दोस्त को छुड़ा डाला और जोर से शेर को लाट मारी। शेर जिराफ के लाट की मार से दूर हाथ गया। 
वहा पे दोनो जिराफ अपनी जान बचाके भागे और वह शेर भी वहा से चला गया। 

Moral story:- जीवन मे यैसे दोस्त होने चाहिये जो हमे मुसीबत के समय मे काम आये और हमे कोई बी बुरी परिस्थि मे हमे मदद् करे। 

और नया पुराने

Display ads