Looking for a good moral story

एक दिन एक लडका अपनी माँ के साथ बाजार मे सब्जी या लेने के लिए जाता है । माँ ने कही सारी सबजीया लिया । लड्का बजार मे खेलो ना देखता रहता है । तब लडके को एक दादी माँ दिखाई दी ।

दादी माँ से सब्जिया का बेग उठा नही जा रहा था । ओर सारी सबजीया गिर गयी । लड्का भागते हुवे उस दादी माँ के पास गया ओर सारी सब्जीया उठाने लगा । दुरसे माँ अपने बेटे को दादी माँ की मदद करते हुवे देख के खुश हो गई ।

माँ कहती है दादी माँ को आप यही पे बैठ जाव खेलो मेरा बेटा आपकी मदद करेगा । दादी माँ ने कहा तुम्हारा लडका बहुत होशियार् है सभी की मदद करता है । तुम्हे इसे बहुत कच्छी तरहा से सांस्कार दिया है । माँ को अपने बेटे की तारीफ़ सुनके बहुत आच्छा लगा ।



माँ ने कहा आपका घर कहा है हम आपको घर तक छोड् के आते है । माँ दादी माँ का हाथ पकड़ती है ओर बेटा दादी माँ का बेग पकड् ता है बत चित करते करते दादी माँ के घर पोहुँच जाते है । थोड़ी देर दादी माँ के साथ घर बैठ ने के बाद माँ ओर बेटा अपने घर लोट जाते है । 

घर जाके माँ ने बेटे से कहा तुम्हे आज क्या खाना है आज मे तुम्हारे मन पसंद खाना बनावुगी । बेटे ने कहा मुझे आज गजर का हलवा खाना है । माँ ने कहा ठीक है आप बाहर खेल के आवो मे आपके लिए गजर् का हलवा बानाके रखुगी ।

मोरल : दोस्तों हमे भी किसी की मदद करते रहना है । टाकी माँ ओर पापा को गर्व मेहसुस् हो ।


Good Moral stories 

एक दादी माँ हॉस्पीतल से अपने धर आ रही थी । लेकिन दादी माँ के चश्मे का एक गलास टूट गया था इस लिए दादी माँ धीरे धीरे चलरही थी । रास्ते मे कुछ बच्चे स्कूल से छुट ने के बाद् धर जा रहे थे ।

बच्चो ने देखा दादी माँ चल नही पा रही है । तब सारे बच्चे मिल के दादी माँ की मदद् कर् ने लगे । दादी माँ ने सभी को कहा मुझे धर जाना है । तो बच्चे लोग ने दादी माँ को धर पोहुचा दीया ।


धर पहुँच ते दादी माँ ने सभी को चौकलेट दिया ओर खेल ने केलीये एक क्रिकेट बेट दीया । सभी बच्चे बहुत खुश हो गये । ओर अपने अपने धर चले गये । धर जाके बच्चे ने माँ ओर पापा को सरी बात बताई ।

माँ ओर पापा भी बहुत खुश हो गये थे । ओर माँ ने बेटे को एक चौकलेट ओर अच्छा खाना बनाके दीया ।

मोरल : किसी की मदद करने से हमे खुशी मिल ती है । अप भी किसी की मदद कीजिये आपको भी खुशी मिलेगी।

Post a Comment

Previous Post Next Post

Display ads