दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है One short adventure story in Hindi  के बारे मे हमे यकिन है Adventure stories बहुत पसंद आयेगा | एडवेंचर स्टोरी 


One short adventure story in Hindi

adventure story in Hindi

एक गोपाल करके लडका था वो अपने मां और पापा के साथ शहेर मे रहता था । स्कूल की छुट्टी हो जाने के बाद गोपाल के सारे दोस्त अपने नाना और नानी के घर रहने के लीये चले गये थे । गोपाल अकेला रहगा था उसे किसी चिज मे मंन नही लग रहा था । इस लीये गोपाल को गांव मे अपनी नानी के घर जाने की बहुत इछा होने लगी थी । लेकीन मां और पापा को नौकरी मे छुट्टी नही मिल रही थी । इस लीये वो लोग गांव नही जाना चाहते थे ।

गोपाल ने तैय कीया की मे अकेला ही गांव जावुगा । जब मां और पापा नौकरी पे गये थे तब गोपाल ने एक चीठी लिखी । मे मेरे सारे कपडे पेक करके सुबह 10 बजे वाली ट्रैन मे बेठ के गांव मे नानी के पास जा रहा हु । वहा पोहुचते ही आपको मे फोन कर दुंगा । येसा लिखने के बाद गोपालने कुच पैसे साथ लीये और चीठी घर के टेबल पे रखके निकल पडा ।

गोपाल ने बिना समय गवाये ट्रैन मे बेठ गया । गोपाल नानी के घर जाने के लीये बहुत बेताब होने लगा था । ट्रैन मे गोपाल खिडकी के बाहर देख रहा होता है । गोपाल खिडकी के बाहर देखते देखते सो जाता है और गोपाल का स्टेशन छुट जाता है । गोपाल जैसे ही आंख खोलता है तो नानी के गांव के बगल वाला गांव दिखाई देता है । गोपाल तुरंत ट्रैन मेसे निचे उतर जाता है ।



गोपाल सोच मे पड जाता है अब मे क्या करु कैसे मे घर पहचु । उस गांव मे बस या फिर से ट्रैन नही जाती है । गोपाल को अब जंगल के पाहाडी वाले रास्ते से गांव मे जाना था । गोपाल धिरे धिरे चल पडा । रास्ते मे गोपाल को कही लोगो ने पुछा बेटा तुम्ह कहा जा रहे है । लेकीन गोपाल ने किसी को जवाब नही दीया बस गोपाल चलता गया ।

चलते चलते गोपाल एक नाले मे गिर पडा । फिर से उथ के वो चल दीया रास्ते मे एक जिल आया वो जिल मे गोपाल नाहने लगा गोपाल ने उस जिल मेसे बहुत सारी मछली पकड लीया । गोपाल ने नाहने के बाड आपने बेग मेसे कपडे नीकाले और पहन लीये । गोपाल ने एक लंब्बी लकडी लीया उस मे मछली को रस्सी से बंध लीया और अपने गंदे कपडे बंध लीये । और गोपाल चल दीया ।

चलते चलते गोपाल ने कही खेत को पार कीये । गोपाल गिरते सभल के नानी के घर पहुच गया । नानी गोपाल को देखते हुवे बहुत खुश हो गयी । गोपाल ने नानी मां को मछली दीया और गोपाल ने तुरंत पापा को फोन किया और कहा मे नानी मां के घर पोहुच गया हु । गोपालने पापा को रास्ते मे जो कुच हुवा वो सारी बात बताया । पापा ने कहा तुम्ह नानी मां को परेशान मत करना । तुम्हारी छुट्टीया खतम होने के बाड तुम्हे मे लेने के लिये आवुगा ।

गोपाल पापा की बात सुंके बहुत खुश हो गया । गोपाल ने गांव मे कही लोगो को अपने दोस्त बनाये । वो उस के साथ खेल ने के लीये जाता था । नानी मां के साथ बाते करता था । नानी मां के साथ खेत मे जाता था । गाये को चारा डालने के लीये जाता था । गोपाल ने आपनी स्कूल की छुट्टीया बहुत अच्छी तरहा से बितायी । 

 

दोस्तो मुजे यकिन है कि Best adventure stories in hindi आप को पसंद आयि होगि । यह adventure story in hindi  आपको कोइ भुल करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंट करके बाताये और आपको कहनिया adventure story लिखने का पसंद हो तो adventure story in hindi या short adventure stories ईमैल कर सकते हो | adventure motivational stories

Post a Comment

Previous Post Next Post

Display ads