Ads

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है Inspirational stories with morals के बारे मे हमे यकिन है ।inspirational stories of success  बहुत पसंद आयेगा moral stories for adults

inspirational stories


short inspirational stories with morals

एक मोहीनी करके लडकी थी वो अपने गांव मे होशीयार थी । उसे सबी लोग पसंद करते थे सबी को लगता था वो एक ना एक दीन आगे जरुर बदेगी और गांव का नाम रोशन करेगी । लेकीन गांव बाहुत गरिब था मोहीनी के पापा के पास पैसे नही थे इस लिये मोहीनी कुच चिजे नही सिख पाती है ।

मोहीनी दिन ब दीन कुचना कुच नाया सिखने की कोशिश करती रहती थी । मोहीनी नया सिखने की यही लगन एक दीन उसका जिवन बदल ने वाला था। एक दीन स्कूल मे नीबंध स्पर्धा हुवा । जिस मे मोहीनी ने भी हिस्सा लीया था । एक टीचर ने सबी बच्चो को कहा आज सबी को नीबंध लिखना है लेकीन उस का टोपिक है । Inspiration  जो हमारे जीवन मे संर्गष और मेहनत से कामीयाबी हासील कारे ।

सबी बच्चे नीबंध के विषय को समजने लगे लेकीन क्या लिखना है वो पता नही चलता है । मोहीनी ने तुरंत लिखना शुरु कर दीया । देखते ही देखते मोहीनी ने एक पूरा नीबंध लीख दीया और दुसरे बच्चे सोच रहे थे क्या लीये क्या लिखे । मोहीनी ने नीबंध Mery  kom biography जीवन पे लिखा  । मोहीनी का सुंदर नीबंध और सुंदर लिखाई टीचर को बहुत पसंद आ गया ।




सभी टीचर ने नीर्णय लीया के मोहीनी को अब राज्य कक्षा के नीबंध स्पर्धा मे हिस्सा लेने के लीये भेजा जाये । सभी टीचर की मदद लेके मोहीनी राज्य कक्षा मे नीबंध स्पर्धा मे भाग लीया वहा पे भी मोहीनी ने save environment पे बहुत अच्छा नीबंध लिखा देखने वाले को मोहित करदेने वाली सुंदर लिखाई । एक दम साफ सुतरा नीबंध मोहीनी का नीबंध सबी को Inspire कर रहा था । 

कुच समय के बाद राज्य कक्षा से मोहीनी को एक संदेश आया की ईंटरनेशनल लेवल पे नीबंध स्पर्धा है जिस मे मोहीनी को आना है । मोहीनी ने नीबंघ स्पर्धा की तैयारी शुरु कर दीया था । जब वहा पे जाने की बारी आई और वो ईंटरनेशनल लेवल पे गई वहापे मोहीनी का रंग रुप देखते साबी हांस रहे थे   मोहीनी बहुत नर्वस हो गई थी इस ने आज ताक इतने बडे बडे लोग देख नही थे और सबी का सुंदर कपडे थे , पैरो मे जुते थे । 

लेकीन मोहीनी ने मंन मे थान लीया ये लोग मुझ पे हांस रहे है उन्हे नही पता की आज वो सब मुझसे हार ने वाले है । जब नीबंर्ध स्पर्धा शुरु हुवी मोहीनी को एक विषय मिला जीस मे PV Sindhu biography लिखना था । लेकीन मोहिनी ने उस विषय पे नीबंध लिख दीया । जब नंबर की बारी आयी 50 लोगो मेसे केवल 10 को चुन्ना था । उस मे मोहीनी का 10 वा नंबर आया ।

लेकीन मोहीनी ने हार नही मानी जब नंबर 1 के लीये स्पर्धा हुवी जिस मे मोहीनी का मंन पसंद विषय मिल गया था जीस मे लिखना था Virat Kohli Biography । मोहीनी ने एक दुसरे के तरफ देखा और मुसकूराया और नीबंध लिखने की शुरुआत कर दीया । देखते ही देखते मोहीनी ने कुच ही समय मे नीबंध लिख लीया । मोहीनी ने इतना सुंदर नीबंध लिखा था की निरिक्षर मोहीनी के नीबंध से निगाह हता नही पाया और मोहीनी को पहला नंबर दे दीया ।

मोहीनी जब घर आती हे बडे बडे मेडल लेके तब गांव वाले बहुत खुश होते है । मां और पापा खुशी के आसु रोने लगते है ।

 

moral:- कामीयाबी गरीबी और अमीरी नही देखता है उस लोगो से कामीयाबी केवल मेहनत मागती है । 


Inspirational stories with morals 

एक घर बानाने वाला कारीगार था वो कही जगह पे काम कीया लेकीन उसे अच्छा मालीक नही मिल पाया । एक दीन उसने एक बहुत अच्छा घर बनाया । एक बडे कंपनी के मालिक ने उस घर की बनावट देखते हुवे बहुत खुश हो गये और उसको अपनी कंपनी मे बुलाया और उसे नौकरी पे रख लीया ।

वो कारीगार उस कंपनी मे बहुत मेहन्त करने लगा कही लोगो के घर अच्छे अच्छे बनाये । सबी लोग उस कारीगार को प्रसंन्द करने लगे थे। कंपनी का मालीक भी उस कारीगर से बहुत खुश था और उससे ही पहले काम देता था और व बखुबी से काम पूरा करके देता था ।   




कारीगार को कही साल नीकल गये उस कंपनी मे काम करते हुवे । अब कारीगार को कंपनी से रिटाईड होने वाला था वो सोचता था की मालीक मुझे कुच तौफा देगे मेरे अच्छे काम के लीये । एक दीन मालिक ने कारीगर को अपने पास बुलाया और उसे कहा तुम्हे एक घर बनाना है ये घर मेरे प्रिय जन का है इस लीये तुम्हे रिटाईड होने के पहले एक घर बनाके देना है ।

कारीगार मालीक से बहुत उदास हो गया था । मालीक ने मुझे कुछ अच्छा तौफा नही दिया है । इस लीये कारीगार ने बिना दमांग चलाये घर बना दीया । वो घर घर नही दिख रहा था उस का पूरा आकार गलत था ।

जब कंपनी के मालीक ने उस के रिटाईड होने पर उसी ने बनाया हुवा घर उसे तौफे के रुप मे दीया तब वो बहुत रोया और अपने आपको कोसने लगा ये मेंने क्या कीया । मेरे मालीक इतने अच्छे है मेरे बारे मे कितना सोचते है और मेंने गलत सोचा इस लीये मुझे आज यह मिला है ।

moral : गलत सोचने से हमारे साथ भी गलत ही होता है ।  

short hindi motivational story 


गौतम बुध्ध को एक सभा में भासन देना था । गौतम बुध्ध ने क्या बोलना इस लीये कोई तौयारी नहीं कीया था । गौतम बुध्ध वहाँ पे गये वहाँ पे 200 जितने संन्त बैथे हुवे थे । गौतम बुध्ध चारो दिशा में नजर गुमाके दिख लीया और वहाँ से उथ के चले गये ।  

दुसरे दीन भी गौतम बुध्ध ने कोई स्पिच तौयार नहीं कीया था वो वहाँ सभा में गये अब वहाँ पे 100 जितने संन्त बैथे हुवे थे । कुच लोग नहीं आये थे । गौतम बुध्ध ने चारो और देखा उसके बाद वहाँ से उथ के चले आये ।

तिसरे दीन गौतम बुध्ध फिर से सभामे गये । वहाँ पे केवल 50 लोग बैथे हुवे थे । फिर से कुच लोग नहीं आये थे । गौतम बुध्ध चारो दिशा में देख के वापस चले गये ।

फिर से गौतम बुध्ध उस सभा में गये वहाँ पे केवल 10 लोग बैथे थे । गौतम बुध्ध ने वहाँ पे भासन देना सरु कीया । उन्होने कहा मुझे 200 लोगो की जरुरत नहीं है केवल यह 10 लोगो की जरुर है जो सच्ची नीष्टा के साथ यह सभा में कुच सिखने के लीये आये है ।

जिवान में कुच बन्ना चाहते है जिवान में आगे बडना चाहते है । मुझे पता है लोग केवल यहाँ पे अपना समय बिताने के लीये आते है वो लोग आज नहीं आये । जो सिखना चाहते है वो लोग आज अयी पे आये है । 


दोस्तो मुजे यकिन है कि short motivational stories with moral आपको पसंद आयि होगि । यह inspirational moral stories for adults आपको कोइ भुल करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंट करके बाताये और आपको कहनिया New inspirational stories with moral lessons लिखने का पसंद हो तो motivational stories with moral या true motivational stories with moral ईमैल कर सकते हो | inspiring short stories on positive attitude  

 जीवन बदलने वाली कहानी

short stories with moral

funny inspirational stories with moral



और नया पुराने

Display ads