moral stories for adults hindi || stories for adults

stories for adults

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है moral stories for adults के बारे मे हमे यकिन है | stories for adults बहुत पसंद आयेगा | bedtime stories for adults

 moral stories for adults
एक छोटे से गांव मे हरीया रहता था उस का नन्ही सी कुल्फी की दुकान थी । वो हर दीन अपनी कुल्फी बेचा करता था लेकीन उस के पास मुक्त वाले दोस्त आ जाते थे और कुच भिखारी आ जाते थे । इस लीये वो ज्यादा कमाई नही कर पाता था । घर जाके अपनी पत्नी को पैसे देता है और कहता है हर दीन इसी तरीके से कमाई होती है मेरी मुदल की रकम भी नही निकाल पाती है । पत्नी कहती है कुच नही किसि भुखीये की मदद करना अच्छी बात है ।

एक दीन हरीया दुकान पे बेठ के कुल्फी बेच रहा था तब कही दोस्त आपस मे बात कर रहे थे । मेरा बेटा बहुत बीमार है मेरे पास कुच पैसे नही है मे कैसे मेरे बेटे को होस्पीटल ले जा सकता हु । तब उस ने हरीया से कुछ पैसे उथार मंगा और हरीया से कहा मे दो दीन के बाद लोटा दुंगा ।




हरीया ने 500 की नोट दीया हरीया सोच मे पड गया क्या वो मुझे दो दीन मे वापस पैसे लोटा देंगा । लेकीन सच मे दो दीन होने के बाद वो हरीया को 500 की नोट वापस लोटा के गया । वो दोनो खुशी खुशी बात कर रहे थे तब एक आदमी आया वो हरीया से कुच पैसे उधार मांन्गे लागा मे कल सुबहे तुम्हे वापस पैसे लोटा दुंगा हरीया ने 200 की नोट दीया । हरीया को सुबह मे दुकान खोलने से पहले वो 200 की नोट देने के लीये आ गया ।

अब हरीया के पास कुल्फी खाने वाले की जगाह उधार पैसे मंग्ने वाले ज्यादा लोग आने लगे । एक आदमी हरीया के पास आता है वो 2000 की नोट मांग्ने लगा । हरीया ने मना कर दीया मे इतने पैसे नही दे सकता हु मेरे पास इतने पैसे नही है । इतने ज्यादा पैसे मे नही दे सकता लेकीन वो आदमी कह रहा था की मुझे बहुत जरुरत है मे तुम्हे वापस काल साम तक लोटा दुंगा । लेकीन आप मुझे पैसे उधार दीजिये ।

हरीया का दील बहुत उदार था उससे उस आदमी की रोना नही देखा गया इस लीये कुच 2000 की नोट दीया । हरीया बहुत सोच मे पड गाया आज तो मेंने जितना कमाया था वो मेंने दे दिया । अब मे क्या करुगा वो मुझे वापस नही देगा तो मे क्या करुगा । लेकीन वो आदमी सच मे पैसे लोटा ने आया हरीया को 2000 की जगाह 2200 रुपीये देता है । हरीया ने कहा तुम्हे एक नोट ज्यादा दीया है मुझे केवल 2000 की एक नोट देना था । लेकीन वो अदमी ने कहा ये पैसे मेंने ज्यादा दीया है । आपने मेरी जरुरत के समय मदद कीया है इस लीये जब मुझे जरुरत होगी तब मे आप के पास से वापस पैसे ले लुंगा ।


 

हरीया ने कहा ठीक है वो घर पे लोट ते समय कुच जलेबी पत्नी के लीये ले गया । वो पत्नी को जलेबी देता है और कहता हे आज मुजहे 200 रुप्ये ज्यादा मिले है । वो रात मे सो नही पाया पुरी रात सोच रहा था की मे क्यु ना पैसे के साथ उपर से कुच पैसे ज्यादा ले लेता हु ।

दुसरे दीन से वो पैसे के साथ कुच पैसे ज्यादा लेता था । वो धीरे धीरे कर के उस की अदनी बड गई और कुच ही समय मे उस ने नन्ही दुकान से एक बडी कुल्फी की दुकान बना दीया । धिरे धिरे वो कफी लोगो को पैसे देने लगा और गांव का सबसे अमीर आदमी बन गया था ।

सबी लोग उसे कुच पैसे उधार लेते जाते थे और वो अमीर बनता जाता था उस का उदार सभाव था इस लीये सभी लोग उस के पास से पैसे लेने आते थे और वो सभी लोगो की मदद करता था । 

    

bedtime stories for adults 

एक दीन की बात है एक लडका हर दीन गांव मे सबजीया बेच ने के लीये गांव गांव गुमते हुवे बेचता था । उस लडके को कुच दीन ज्यादा पैसे मिलते थे कुच दीन क्म पैसे मिलते थे । लेकीन वो सुबह उठते ही सबजीया बेच ने के लीये निकल पडता था । 

एक दीन गांव के मुकीया की बेटे की शादी थी तब उस लडके को मुखीया ने बुलाया और कहा मुझे शादी मे पक्वान बनानेके लीये ताजी सबजीया चाहीये । वो लडके ने कहा थीक है मे कल सुबह अच्छी अच्छी ताजी सबजीया ले के आ जावुगा । उस लडके को शादी मे सबजी देने के बाद बहुत मुनाफा हुवा । सोच ने लग गया की येसे 2-3 ओदर मिल जाये तो मेरी लाईफ सेट हो सकती है । 

कुच दीन गांव गुम्ते गुम्ते उसे फिर एक बडा ओदर मिल गया । मंदीर मे ताजी ताजी सबजीया देना था उसे बहुत मुनाफा हुवा । गांव मे सभी लोगो को पता चल गया की ये लडका ताजी ताजी सबजीया बेचता है और कम डाम मे देता है । 




उस ने गांव के चोराहे पे एक एक बडी दुकान खडी करदी अब उस लडके को गांव गांव गुमके सबजीया बेच नी नही पडती थी । केवल सब लोग चोराहपे ताजी ताजी सबजीया लेने के लीये आते थे । और कही सारे किशान कुच सबजीया उस लडके देने के लीये आते थे । थिरे थिरे कर के दुकान से एक सबजी मार्केट बना दीया कही सारे वोर्कर रखे हुवे थे । कही लोग सबजीया खरीद ने आते थे । वो लडका आब एक सबजी मार्केट का मालिक बन चुका था । 

देखते है देखते वो बहुत अमीर बन गाया था उस का सबजी मार्केट मे बडा नाम हो चुका था । आज के समय मे उस के पास कही प्रकार की सबजीया मिलती है और कही लोग काम करते है । लडके ने सबजी बेच बेच के एक नाम बना दिया । 


दोस्तो मुजे यकिन है कि moral stories for adults hindi आप को पसंदआयि होगि । यह adult storytelling आपको कोइ भुल करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंट करके बाताये और आपको कहनिया stories to read before bed for adults लिखने खा पसंद हो तो moral stories for kids या good moral stories ईमैल कर सकते हो  | 10 lines short stories with moral

 

Post a Comment

Previous Post Next Post

Display ads