ads

Short story Small stories for kids

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है Small story for kids के बारे मे हमे यकिन है | Very short story for kids बहुत पसंद आयेगा | Small moral stories for kids

 

small story for kids

Small story for kids in hindi

एक छोटे से गांव मे मगन नाम का एक शेठ होता हे उसके 2 छोटे बेटे के साथ रहता था । मगन के पास सब कुछ था मगन की पत्नी की मुत्य के बाद मगन ने दोनो बेटे को पठाई लिखाई करवाई । बडा बेटा रगु पठाई पुरी होने के बाद जोब पे लग गाया । छोटा बेटा राजु अभी पठाई कर रहा था ।

एक दीन राजु ने पिता से कुछ पैसे मांगे तब पिता ने कहा की क्या जरुरत है तब राजु ने कहा की हमारे घर जो सामु काका थे उक को कोरोना होने के कारण होस्पितल मे दखल कीये है । हमे सामु काका को कुछ पैसे देने चाहीये । तब बडा बेटे रगु ने कहा की हम सामु काका को काम करने के लीये पैसे देते थे वो क्या मुक्त मे काम करते थे । इस कोरोना मे हम होस्पितल मे नही जा सकते क्या पता सामु काका लोट के आयेगे या नही ।   





पिताजि को राजु की बात सही लगी और कुछ पैसे दीये । राजु ने होस्पितल जाके डोक्टोर को पैसे दे आता है । तब सामु काका उसे बहुत धनीयावाद केहता है । जब राजु घर आता हे तब उसे एक बच्चा दिखाई देता हे वो भिख मांग रहा होता हे। तब उसे कुच पैसे देता है और कुछ खाना देता है ।

एक दीन पिताजि को उसके छोटे बेटे राजु की बहुत चिंता हो रही थी तब सामु काका से वो कहने लगता है राजु का क्या होगा आगे जाके उस का बडा भाई रगु उस के पास से सब कुच छीन लेगा उसे चेन से जिने नही देगा। अभी मे सारी संम्पती का बतवारा भी नही कर सकता क्यु की छोटे बेटा राजु को उस के बडे भाई रगु की सारी अस्लीयत पता चलनी चाहीये । सामु तुम एक काम करना ये जो लोटा है उस मे कुच बिज है वो राजु को समय आने के वक्त देना और जमीन मे बोने के लीये कहना ।

कुच समय के बाद शेठ की मुत्यु हो जाती है तब पंचायत मे सभी लोग ने बेथ के फेस्ला लीया की जो संम्पती है उस का आधी आधी दोनो बेटे के बिच मे बात देना चाहीये । लेकीन रगु ने कहा की मे बडा बेटा हु इस लीये मुझे ज्यादा हिस्सा मिलना चाहीये । पंचायत ने कहा येसा कुच नही चलेगा दोनो को आधी आधी मिलेगी । लेकीन रगु नही मान रहा है इस लीये राजु ने कहा ठीक है बडे भाई जो कह रहे है वेसा ही हम करते है ।

राजु को एक छोटा सा खेत दीया । राजु खेत के पास मे एक टुटी फुटी एक कुटीया थी वहा रहने के लीये चला गाया । कुच समय के बाद सामु काका आके एक लोटा देता हे और राजु ने खेट मे बिज को बोने के बाद कुच समय तक इत्जार करता है । कुज बिज के अंकुर होने के बाद सामु काका और राजु दोनो बात कर रहे होते है इस बीज से क्या निक्क्लेगा । दोनो को नही पता था इस नन्हे छोड से क्या निकलेगा ।

कुच समय बित गाया छोड बडे हो गये थे उस छोड से पैसे लगे थे राजु ने सारे छोड से पैसे उतार दीये और सारे पैसे की बोरीया भर लीया । राजु ने एक खेत के बगल मे बडासा एक महेल बनाया शांती से रहने लगा ।




सारे गांव मे राजु की चर्चा होने लगी तब रगु सोच ने लगा की मेरे पास ये खेत होता तो मे चेन से बेथे बेथे पैसे गिंता । मे सायद राजु से बात करके देखता हु मुझे ये खेत दे दे तो अच्छा है । रगु राजु के पास गया और राजु से कहने लगा की मेरे भाई ये सारी संम्पती तुम्ह लेलो लेकीन मुझे ये खेत देदो । लेकीन राजु को पता था की उस का बडा भाई एक लालची है इस लीये राजु ने रगु को माना कर दीया ।

रगु उदास होके घर लोट गया । तब सामु काका ने कहा की राजु बेटा तुम्हे दुनीया की समज आ गई है तुमहे इस दुनीया मे केसे रहना ह वो पता चल गया है । शेठ आज इस दुनीया मे होते तो बहुत खुश होते ।


 

A small moral story in hindi

राजु और रगु को शेठजि ने एक साईकल खरीद के दीया । लेक्कीन राजु छोटा था इस लीये रगु उसको साईकल नही देता था । दोनो के बिच्च बहुत लठई होती है दोनो आपस मे बात नही करते है । शेठ जिने राजु को दुसरी साईकल खरिद दीया अभी दोनो के पास अलग अलग साईकल है ।

दोनो भाई ने एक दीन साईकल की हरी फाई लगाई । लेकीन उस साईकल की हरी फाई मे रगु जित गया । राजु बहुत रोया शेठ ने राजु को कहा की जो लोग कमजोर होते है वो रोते है हम तो बहादुर है इस लीये हमे रोना नही चाहीये लेकीन हमे उस परिस्थीती का सामना करना चाहीये ।

एक दीन स्कूल मे साइकल की रेस हुवी उस मे दोनो भाई ने भाग लीया था । बडे भाई ने राजु को कहा की तुम्ह क्यु रेस मे हिस्सा ले रहे हो मुझे पता है तुम्ह हार जावोगे और मे जित जावुगा । रेस होने से पहले शेठ ने राजु को कहा की हम बहादुर है हमे कोई नही हारा सकता है तुम जान लगा देना रेस मे तुम्ह जरुर जित जावोगे ।

रेस की शुरुआत हुवी राजु ने जोर सोर से साईकल चलाने लगा । रगु आगे की तरफ था और राजु पिछे पिछे सभी को लग रहा था की रगु ही जितेगा। राजु बहुत कोशिश कर रहा था रगु से आगे निकल नेकी लेकीन निकल नही पाया । लेकींन राजु ने हार नही मानी और कोशिश करता गया ।




लेकीन सिमाकी लाईन तक पोहोच ने से पह्ले राजु रगु से आगे हो गया और राजु जित गया । सभि ने राजु के लिये तालि लगाई । राजु को एक बडी त्रोफि दीया । रगु का सारा गमंद टुत गया । रगु आब से राजु से ठीक तरिके से बर्ताव करता है ।

दोनो भाई के बिच मे अच्छी तरहा दोस्ती हो गई थी दोनो साथ साथ रहने लगे । शेठ दोनो बच्चो को साथ देखते हुवे बहुत खुश होता है।    


Related Stories Next :- 

3 Small story for kids

4 Small moral story

5 Small stories for kids to read

6 Short stories for small kids

7 Very small story for kids

8 Small stories for kids pdf

दोस्तो मुजे यकिन है कि Small moral story in hindi आप को पसंदआयि होगि । यह Very short moral stories आपको कोइ भुल करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंट करके बाताये और आपको कहनिया Short story small story for kids लिखने खा पसंद हो तो Small bedtime story या Moral of the story in hindi ईमैल कर सकते हो  | Small story of brave child

 

Post a Comment

Previous Post Next Post

Display ads

Display ads