Moral of the Story Birds Picked King

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है birds picked king के बारे मे हमे यकिन है | moral of the story बहुत पसंद आयेगा | story of birds

birds picked king


एक गने जंगल मे बदा सा बगुला रहता था वो अपने आप को जंगल का राजा मान्ने लगा और साभी पक्षी को तंग करता रहा था वो बगुला अपने आप पे बहुत गमंद करता था इस लिये जंगल के सभी पक्षी बगुले की गमंदी हरकत से सभी लोग तंग गये थे

सभी पक्षी एक साथ मिल के एक सभा बुलाई वो सभा जंगल के दुसरे कोने मे एक बदे से पैडे के निचे थी ना वो बहुगा देख सके ना वो बगुले को पता चल सके इस तरहा सभी पक्षी उस सभा के स्थान पे पोहुच गये सभी पक्षी अपस मे बात-चीत करने लागे बगुले को राजा से पद से निकाल ना होगा वो हमारे पक्षी के लिये अछा नही है

इस लिये हमे कीसी और को चुन्ना होगा राजा के लिये पोपट बोला हमारे लिये बुलबुल को राजा बनना चाहिये सभी पक्षी बुलबुल को हि कहने लगे बुलबुल तुम राजा बन जावो बुलबुल ने कहा की जि हा मे राजा बन्ने के लिये तैयार हु लेकीन बगुले को कोन बताये गा की आज से तुम्हे राजा के पद से निकाल दीया है

तब गुवद बोला मे बतावु गा बगुले को वो कहने लगा की मे बगुले को सबक सीखावुगा इस लिये मे मेरे दोस्त लक्द हार की मदद लुगा वो गुवद अपने दोस्त लक्द हार के पास गया और कहने लगा की मेरे भाई तुम मेरी एक मदद करो तुम्हे मेरा एक काम करना है  इस दाली को अपनी चोच से कत लो केवल एक चोच से तुत जये एसी रखना गुवद सारी बात लक्द हार से कह के चला गया




गुवद बगुले के पास गया बगुले ने तुरत गुवद से पुछा की सभी पक्षी देखाई नही दे रहे है कहा गये गुवद ने कहा की सभी पक्षी ओने अपने लिये एक नया राजा को चुन लिया है बगुला कहने लगा सभी पक्षी मे इतनी हिम्म्त जो मेरे सम्ने खदे होगे गुवद बोला सभी पक्षी को लग रहा है की आप कमजोर हो गये है इस लिये हमे नये राजा को चून्ना चाहिये |

बगुला गुवद को कहने लगा की चलो मे आज तुम्हे मेरी तकात दिखता हु गुवद वहा ले गया जहा पे सभी पक्षी लोग हाजिर थे और बगुले को कहा गया की तुम्हे दाली को चोच से तोद नी है बगुले ने कदक आजाव से कहा की तो मेरे लिये आशान है बगुले बहुत कोशिश किया वो थक गया लेकीन सभी लोग को हस्ते हुवे देख्ते वो फिर से कोशिश करने लगा तब गुवद ने बगुले को कहा की समय स्मापत हुवा

अब बुलबुल की बारी है तब बगुले ने कहा की मुजसे नही दाली तुती तो क्या बुलबुल से तुत जाये गी दाली बुलबुल वहा गई जो दाली पहले शेही दाली को लकद हार ने तोद के रखा था बुलबुल ने 2 चोच मारी तो तुत गई दली सभी पक्षी बुलबुल की जय हो बुलबुल की जय हो इस तरहा बोल ने लगे वो सुन्के बगुला वहा से बहुत दुर चला गया और कभी भि वपास लोट के नही आया

 


toy story bad guy

storybird login


दोस्तो मुजे यकिन है कि moral of the story for kids आप को पसंदआयि होगि यह story birds आपको कोइ भुल करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंट करके बाताये और आपको कहनिया storybird लिखने खा पसंद हो तो story about birds and bees या story of birds and bees ईमैल कर सकते हो  | how the birds picked a king


Post a Comment

Previous Post Next Post

Display ads