Inspirational moral stories for adults in Hindi

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है Inspirational moral stories के बारे मे हमे यकिन है | Inspirational moral stories for adults in Hindi बहुत पसंद आयेगा ।

moral stories

एक छोटा सा गांव जनकपुर था वहा पे लोग कही प्रकार कि खेती करते थे और शहेर मे बेचने के लिये जाया करते थे । सभी लोग बहुत ईमानदार और खुशमय तरीके से गांव मे सभी लोग मिल जुलके रहते थे ।

इसी तरहा गांव जंगल के पास ही था कुच लोग जंगल मेसे मधुमंखी का सहेद निकाल के बेचा करते थे । लेकिन मधुमंखी का सहेद निकाल नेमे बहुत परेशानी का समना करना पदता था । जब भी कोई सहेद निकाल ने के लिये जंगल कि और जाता था तो भालु आ जाता था और सभी लोगो को वहा से भालु के डर के कारण भाग ना पदता था ।

एक दीन 3 युवा लदके बाबा के पास गये और बाबा को कहा की हमे पेड पे चदना सिखावो बाबा हम जल्दी से पेड पे चड नही पाते है । जेसे हि हम पेड पे चड ने कि कोशिश करते है तो भालु आ जाता है इस लिये हमे जंगल मेसे भाग ना पदता है । बाबा ने युवा लदके कि बात सुनी और कहा की थीक है मे तुमहे पेड पे किस तरहा चडा जाई एसी टेकनिक बतावू गा ।

बाबा ने कुच दिनो तक युवा लदके को पेड पे किस तरहा चडा जाई वो सिखाया और काफी सारी टेकनिक बटाई । अब बाबा ने कहा की काफी दिनो तक आप लोगो ने जम कर पेक्टीस किया है तो कल मे अपकी परिक्षा लुगा देखुगा की मेरे सिखाने पर किसने ज्यादा ध्यान दीया है ।

पहला युवक पेड पे चड गया तुरत ही लेकिन एक दाम जोर से निचे फिसल के आ गया । तो बाबा बोला बेटा एसा नही करते । दुसरा लदका पेड पे चडा और वो भि तुरत पेड पे चद गया लेकिन वो भी उपर से फिसल के निचे आ गया तब बाबा बोले बेटा एसा नही करते है । तिसरा लदका पेड पे चड गया लेकिन वो पेड से थोदी औए धिरे धिरे उतरा और वहा से निचे कुद पदा तब बाबा बोले बेटा एसा नही करते ।



3 नो युवक को पता नही चल रहा था की बाबा ने क्यु एसा कहा होगा । तब एक युवक ने बाबा से पुछा कि बाबा आपने क्यु कहा कि एसा नही करते । तब बाबा ने कहा की बेटा में ने आप 3 नो पेड पे उपर जलदी केसे चडे वो सिखाया था । वहा तक तो ठीक था लेकिन उतर ते समय आप लोगो ने गलती कर रहे थे । कोई उपर से फिसल कर आ जाता है तो कोई उपर से कुद के निचे आ जाता है वो तरीका गलत है । इस तरहा कीसी को लग सकती या गायल हो सकता है । 3 नो युवक ने बाबा कि बात सुनी और बाबा की बात से सहमत हुवे ।

दुसरे दीन 3 नो युवाक जंगल मे सहेद निकाल ने के लिये गये और 3 नो युवक पेड पे चड गये और बहुत सारा सहेद निकाला और निचे की और आये तो भालू निचे खादा था तब जाके वो 3 नो युवक को पता चला की बाबा क्यु कह रहे थे कि तुरत निचे नही उतर ना चाहीये निचे कि और देख लेना चहिये तब निचे उतर ना चाहीये । भालू थोदी देर के बाद वाहा से चाला गया और वो 3 नो निचे उतर गये ।

शहेर मे जाके सारा सहेद बेच के अपना जिवान गुजार ने लगे । और सभि गांव वालो को टेकनिक के बारे मे बता ने लगे कि किस तरहा उपर चड ते है और किस तरहा निचे उतर ते है । 3 नो युवक ने सभी का भला देख्ते हुवे सभी को शिखाया । सभी का बुरा समय चला गया और सभी लोग मिल जुल के सहेद बेचने लगे और ग़ांव मे एक अलग सी रोनक आ गई । सभी लोग मिल जुल के खुशी खुशी रहने लगे ।    

 Related Short Stories :----         

Inspirational stories with moral lessons

Inspirational stories about life with moral lesson tagalog

Inspirational stories with moral values

short stories with moral values for adults in Hindi

     

दोस्तो मुजे यकिन है कि Inspirational moral stories for adults आप को पसंदआयि होगि । यह stories for adults in Hindi आपको कोइ भुल करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंट करके बाताये औरआपको कहनिया Inspirational moral stories with moral lesson लिखने खा पसंद हो तो short moral stories for adults in Hindi  या  Inspirational moral stories for student ईमैल कर सकते हो  | inspirational moral stories for adults in Hindi             

Post a Comment

Previous Post Next Post

Display ads