Best Best motivational story in Hindi

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है Best Best motivational story in Hindi के बारे मे हमे यकिन है | motivational story short बहुत पसंद आयेगा 

motivation story

Motivational Story

एक गांव था वहा का एक बहुत अमीर शेठ था वो सभी लोगो को व्याज पे पैसे देता किसि को अजान बेचता था । उस का करोबार बहुत अच्छा चल रहा था । दादाजी का स्वभाव कठीन था वो मजुर लोगो को थीक से काम नही करते है तो धमकाता था और मारता था ।

एक दीन शेठ का पैत्रा शेठ को दादाजी कह के बोलाता हुवा गया । दादाजि के गोद मे बेथ गया और जेब मेसे 2000 हजार की नोट निकाल लिया |

दादाजी को कहने लागा की अपको ए 2000 हजार की नोट चाहीये तो

दादाजि ने हाथ आगे की और किया ।

उस लदके ने 2000 हजार की नोट को हाथ से कुचल दिया और दादाजी को कहा की आप को चहिये ।

दादाजी ने हाथ आगे की और किया
फिर लदके ने 2000 हजार की नोट पैरो सो मसल दिया और दादाजी को कहा की अपको चाहिये ।

दादाजी ने हाथ आगे की और किया ।

बाद मे वो 2000 हजार की नोट दादाजी को दे दीया । दादाजी ने उस लदके को पुछा बेटा तुम क्या सबीत करना चहते थे । जो इस तरहा की हरकत किया ।

लदके ने कहा की मेंने पहले आपके पास से 2000 हजार की नोट लिय तब उस की किमत 2000 हजार ही थी । बाद मे मेंने 2000 की नॉट को मेंने कुचल दिया तब भि 2000 हजार किमत थी । लेकिन मे ने पैरो तले मेंने मसल दीया वो 2000 नोट धुल मे मिल गई तब भी उस की किमत 2000 है ।

इसी तरहा ईसान की किमत काबीलीयत से हो ती है । कभी भी ईसान की किमत कम नही होती है । चाहे कितना भी मुसीबात आ जाये चाहे पाहाद क्यु ना तुट जाये लेकिन ईसान की किमत वही होती है । ईसी तरहा आप लोगो को धमका ते है मारते है वो गलत बात है वो ईसान है ईसान ही भुल करता है और ईसान ही भुल को सुधार ता है |

 

 


Best motivational story for students

एक किशान था वो बहुत बुध्धा हो गया था एक दिन एसा आया की वो आखरी स्वास ले रहा था किशान के दो बेटे थे किशान ने दोनो बेटे को अपने पास बुलाया और कहा की मे कल जिया या मर जावु गा किशी को नही पता है इस लिये तुम दोनो को मे जमीन का हिस्सा बरो बर तरीके से बात के देता हु और दोनो को मे 2-2 हजार धन देता हु वो देके बो किशान मर गया उस के बाद बदा बेटा 2 हजार लेके के चला गया जुवा खेल ने के लिये और छोटे बेटे ने सभी प्राकरीया किया और 2 हजार मेसे कुच्छ पैसे बचे हुवे थे। छोटे बेटे ने जो पैसे बचे हुवे थे वो अपने खेत मे खेती कर ने के लिये लगा दीया उसी मे मेहनत कर ने लगा और बदा बेटा गलत संगत मे अपने 2 हजार खर्च कर दिया और खाने पिने के स्मसीया आने लगी

छोटे बेटा था वो खेत मे कुच काम कर के खा लेता था जो खेत मे खेती करी ती वो लेने के बाद कुच धन मिला उसी से दुसरी खेती की और घर मे जरूरी समान ले आया बदा भाई भीखारी बन गया । एक दीन बदा भाई छोटे के पास गया कुच धन मंग ने के लिये । लेकिन छोटे भाई ने कहा कि मे जरूर आप को धन दुगा लेकीन एक सरत पे अपको मेरा एक काम करना होगा ।

आप भी मेरी तरहा खेती करने लगो जो भी पाक निकले गा उसी मेसे मुजे कुच नही चाहीये सारे पैसे आप रख लिजिये गा । तो बदा भाई मान गया छोटे भाई ने खेती मे थोदे बहुत पैसे इंवेस्ट किये । बदा भाई दीन रात उस खेत मे मेहनत कर ने लगा । कुछ समय बाद वो खेत से बहुत सरा धन मिला और ताब बदे भाई को पता चला की ए धन कमाने के लिये बहुत सारि महेनत लगती है ।

वो दोनो भाई ने गांव मे एक बदा सा घर बनाया और दोनो भाई खुशी खुशी रहने लगे ।    

Related Short Stories :----

Bestmotivational story books

Bestmotivational story in gujarati

दोस्तो मुजे यकिन है कि Best motivational story hindi आप को पसंदआयि होगि । यह motivational story about success आपको कोइ भुल करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंट करके बाताये औरआपको कहनिया motivational story in hindi लिखने खा पसंद हो तो motivational story for success या motivational story for kids ईमैल कर सकते हो  | Best motivational story for employees

 

Post a Comment

Previous Post Next Post

Display ads