Top 3 Good moral stories with moral

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है Good moral stories with moral के बारे मे हमे यकिन है | Moral story short बहुत पसंद आयेगा 

Good Moral Story

             मुर्ती का शिल्पकार :- A good moral story

बहुत समय पहले कि बात हे एक शिल्पकार जंगल मे रहता था वो कहि अल्ग अल्ग प्रकार कि मुर्ती बनाया करता था गाव वाले उस कि कारीगीरि से बहुत खुस हुवे थे इस लिये गाव वालो ने सोचा कि क्यु नहि हम अपने गाव के लिये अच्छा सा मंदिर बानाके एक मुर्ती कि स्थापना करे गाव वालो ने उस शिल्पकार को एक मुर्ती बनाने को कहा

दुसरे दिन वो शिल्पकार पहाड कि और गया कुच पत्थर कि खोज मे शिल्पकार को कहि सारे पत्थर मिले लेकिन उस ने केवल तिन पत्थर अपने साथ लेके जंगल कि और चला गाया उसने तिनो पत्थर से पुछा किस को मुर्ती बनना है किस को शीदी बनना है किस को पत्थर हि रहना है

तब तिन मे से एक बोला मुजे तो पत्थर हि रहने दो क्युकी आप छीनी हथोदी से जब आप पटको गे तब मुजे बहुत दर्द होगा दुसरा कहने लगा कि मुजे शीदी ही बनालो उस मे कम दर्द होगा और काम हथोदी कि मार मिले गी तिसरा पत्थर तो समज गया इन दोनो ने अपने अपने विचार तो कह दिये है अब मुजेहि शिल्पकार से मुर्ती बनाये ने को कहना पदे गा क्युकि मे अकेला हि ब्चा हु  

उस शिल्पकार ने उस पहले पत्थर को अच्छे से नहला के ठीक कर दिया दुसरा जो पत्थर था उसे अच्छी तरहा से वो शिल्पकार कम समय मे कम हथोदी कि मार से शीदी बनादाली तिसरा पत्थर जो था उसे शिल्पकार ने बहुत हथोदी कि मार मारी वो पत्थर बहुत चिल्ला रहा था तब वो दोनो पत्थर उसपे हस रहे थे लेकिन वो पत्थर ने हार नही माना और शिल्पकार ने उसे बनाने मे बहुत समय लगाया लेकिन आखिर कार शिल्पकार ने एक सुंदर सि भगवान कि मुर्ती बना दिया

जब गाव वाले उस शिल्पकार के पास आये ओर तिनो पत्थर को ले गये गाव वालो एक सुंदर सा मंदीर बनाया था उस मे तिसरा जो पत्थर था उसे मुर्ती बनाइ गई थी उसे मंदीर मे रख दिया गया मंदिर कि शीदी पे दुसरे पत्थर को रख दिया गया ओर जो पहले वाला जो पत्थर था उसे मंदिर कि बगल मे रख दीया गया था

जब गाव वाले मंदिर मे दर्शन करने आते थे तब सब लोग मुर्ती को फुलो से पुजा करते थे फलो रखके जाते थे दुध से स्नान कराते थे जब पहले पत्थर पर लोग नारीयल फोद ते थे तब वो पत्थर बहुत हेरान परेशान होता था जो दुसरा पत्थर पे लोग चंपल रखते थे कुच सामान रख देते थे वो पत्थर परेशान हो गया था वो दोनो पत्थर चिल्लाते रहे लेकिन उसकी सुन्ने वाला कोइ नहि था

वो तिनो पत्थर आपस मे बात चित करने लगे शिल्पकार ने तुजे बहुत अच्छी जगह पे रख दिया है तुम्हे तो कोइ दिक्कत नही आती है तुम्को हर दीन दूध से स्नान कराते हे लड्डुओ का प्रसाद चठाते हे

हमारी तो किस्मत ही खराब है लोग नारीयल फोड कर जाते हे कोइ मुज्पे चंमल रखके जाते है तब वो मुर्ती वाले पत्थर ने कहा की शिल्पकार ने सभी पत्थर को मोका दिया था लेकिन आप दोनो ने सरल रस्ता चुना था यदी आप लोगे ने सहि रस्ता चुनते तो आपकि जगह पे आज मे होता पहले आप दोनो को मोका मिला था आपलोगो ने मोका छोद दिया ओर मेंने मोका पक्द दिया

Moral story :- सही रस्ता चुनना चाहिये कथीनाई तो सभी जगह पे आती हे उस का समना  करना है भगना नहि हे  

                    Unique Moral Story जलपरि के साथ दोस्ति 

            प्राथना ओर मेहन्त :- Good story with moral

एक गाव मे दो दोस्त रहते थे गोलुमोलु वो दोनो बहुत होशियार थे वो अकसार गाव के मंदिर मे पुजारी को मदद कर ने के लिये जाते थे वो दोनो दोस्त कि मंदिर कि प्रती लगाव देख्ते हुवे पुजारीने उन दोनो को एक खेत दिया ओर कुच गेहु के दाने दिये जिसे वो खेत मे फसल लगा सके

वो दोनो दोस्त मेसे एक गोलु  बहुत मेहन्त करने लगा उस मे मोलु  केवाल भागवान के पास जाके प्ताथान करता था वो कहता था के भागवान फसल अछी तरहा लग जाये गोलु दिन रात फसल को लगाने के लिये मेहन्त करता रहा

जब फसल लग गइ तब वो मोलु कहने लगा कि मुजे ज्यदा हिस्सा मिले गा क्यु कि मेंने भगवान से प्राथना किया है इस कारण सर ज्यादा फसल लगि है वो दुसरा दोस्त गोलु कहता है कि मेंने दिन रात मेहन्त किया है इस लिये मुजे ज्यदा हिस्सा मिलना चहिये

वो दोनो पुजारि के पास गये पुजारि को सारी बात बताइ तब पुजारी ने सोचा कि मंदिर मे जो चावल का चठावा आया था उस मे कुच कंकर थे ओर कुच चावल वो दोनो को मे चावल कि बोरी दे देता हु चावल अलग हो जायेगे ओर उन दोनो दोस्त मे से कोन चतुर है वो भि पता चल जाये गा पुजारि ने वो दोनो दोस्त को चावल कि बोरी दिया ओर कहा कि कल सुबह चावल अलग करके लेआना

वो दोनो दोस्त अपनी अपनी चावल की बोरी लेके चले गये अपने घर जिस मे से गोलु ने दिन-रात चावल ओर कंकर को अलग करने मे लग गया दिया दुसरा दोस्त मोलु भगवान के समने प्ताथान करने मे लग गया के मुजे चावल कि बोरी मेसे चावल अलग करे के दे दो

दुसरे दिन वो दोनो मंदिर के पुजारी को चावल की बोरि दिखाई जिस मे एक दोस्त गोलु ने सभि चावल को कंकर से अलग कर दिया था दुसरे दोस्त मोलु ने बोरी देखी तो उस मे चावल ओर कंकर सामिल थे तब पुजारी ने कहा कि क्यु तुम्ने नहि किया चावल को अलग वो बोला कि मेंने भगवान से कहा कि मेरी चावल कि बोरी मेसे कंकर को निकाल दो लेकिन नहि निकाला

तब पुजारी ने कहा कि असल मे तुमहारे दोस्त गोलु ने ज्यादा मेहंन्त किया तुम्ने  केवल भगवान को प्राथना करने मे हि समय निला हे भगवान उसी का साथ देता है जो मेहन्त करता है पुजारी कि बात सुनके वो मोलु बोला की फसल का ज्यादा हिस्सा मेरे दोस्त गोलु को मिलना चाहिये उसे ने मेरे से ज्यादा मेहन्त किया

पुजारी ने दोनो दोस्त को फिर से मोका दिया ओर कुच फसल दाके बिज जिये वो दोनो दोस्त मिल जुल के खेत मे मेहन्त करने लगे

Moral stories :- हमे केवल भगवान के भरोसे नहि बेथना चाहिये अपनि ओर से महेंन्त करनी चाहिये तब जाके हमे सफ्लता मिलती है

                 चतुर बंदर :- Good moral stories

एक जंगल मे एक तालाब था शाम के बाद कोइ भी उस तालाब मे पानी पिने के लिए जाता था तो वो वापस नहि लोट के आता था एक दिन बल्लू बंदर रहने के लिये जंगल मे आया

उस को जंगल के बारे मे कुच पता नहि था वो तहलते तहलते शेर से मिला शेर ने कहा कि बल्लू बंदर कहा पे जा रहे हो तो वो कहने लगा कि मुजे पानी पिना है तालाब नहि मिल रहा है तब शेर ने सोचा कि तालाब के पास तो खातरा है तब शेर बल्लू बंदर को पानी पिलाने के लिये ले गया पानी पिलाने बाद वो सभि जंगल के जानवारो को मिलाया वो दोनो पक्के दोस्त बन गये थे  

एक दिन जंगल मे सभि लोग नाच गाना खाना पिना कर रहे थे तब वो बल्लू बंदर वहा से ताजि हवा खाने के लिये तालाब के पास गया ओर पानि पिने लगा तब वो मगरमच्छ बल्लू बंदर के पास अचानक गया वो बल्लू बंदर दर गया   बल्लू बंदर उसे देखते दर गया ओर वहा से जान बचाके भग ते हुवे शेर के पास गया

सभी जानवरो एक साथ मिल के तालाब के पास गये तब मगर मच्छ ने सभि जनवारो को तालाब के पास आते हुवे देख्ता है तो मगर मच्छ छुप जाता है बल्लू बंदर ने दिमाग लगाया ओर कहा कि हम जो चिज देख रहे हे वो तो पत्थर हे तो मगर मच्छ बोला जि हा मे पत्थर हु तब सभि लोगो को पता चल जाता है कि तो मगर मच्छ हे

शेर ने मगर मच्छ को कहा कि आज तक जो शाम के समय जो जानवर पानी पिने के लिये आते थे उसे तुम्ने मार दिये हे मगर मच्छ ने कहा जि हा मेंने मार दिया है क्या करु मुजे कुच खाने के लिये नहि मिलता है तालाब मे कुच नहि है सब मछली मर गइ भुख के कराण मेंने जो पानी पीने के लिये आता है उसे मार दिया है |

तब शेर ने कहा कि अबसे एसा नहि करना सभि लोग मिल जुलके रहे गे जो भि हमलोग खाना खाये गे तो आपस मे बाट के खाये गे तुम्हे हम हर दिन खान भेज ते रहे गे

Good moral story :- किसि के साथ गलात या बुरा मत सोच ना चहिये आपस मे मिल जुल्के रहना चहिये  

Related Short Story :- 

Moral of the story 

Good Moral Short Story

Short Story Kids with moral


डोस्तो मुजे यकिन है कि Good moral stories for kids आप को पसंदआयि होगि यह Short story moral stories आपको कोइ सुधार करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंत करके बाताये और आपको कहनिया Moral story for kids लिखने खा पसंद हो तो हमे Looking for a good moral story या Moral stories for adults एमैल कर सकते हो |

Post a Comment

Previous Post Next Post