Laxmi ji ki story for Diwali

दोस्तो आज आपको यह बताने वाले है Laxmi ji ki story for Diwali के बारे मे हमे यकिन है | Lakshmi katha hindi बहुत पसंद आयेगा । Laxmi ji ki story 


laxmi ji

एक गाव मे एक गरिब ओरत रहति थि उस कि एक ननहि छोटी बेटि थि वो अकसर बिमार रहति थि वो ओरत हर दिन नदि के किनारे एक मंदीर था वहा पे हर दिन जाया करति थि मंदीर के बगल मे एक पिपल का पेड था उस मे पानि चठाने जाति थि । पिपल के पेड के निचे हर दिन एक लदकि खेल ने आया करती थि । उस ओरत ने देखा उस लदकि को ओर उसे अपने पास बुलाया ओर कहा कि तुम्हारा नाम क्या हे । तो लदकि ने कहा कि मेरा नाम हे  लक्ष्मी । तो वो ओरत ने कहा कि बहुत अछा नाम हे मेरि भि एक छोटी बेटी हे वो भी तुम्हारि जेसि है ।

दो दिन बाद वो ओरत उस मंदिर मे जाति है ओर पिपल का पेड था वहा पानि चठा ने के लिये गइ तब वो लक्ष्मी वहा उस ओरत पास आइ ओर कह ने लगि आज तुमहारि छोटी बेटी नहि आइ मेतो उस कि राह देख रहि हु मुजे लगा कि आप उसे भि साथ लेके अवोगे । ओर आप कल क्यु नहि आये थे इस मंदिर मे । तब वो ओरत कहने लगि कि मेरि छोटी बेटी बहुत बिमार हो गइ है इस लिये मे कल नहि आ पाइ थि ।

लक्ष्मी  कहने लगी कि आज मे आप के साथ घर आ सकति हु मे देखना चहती हु के अप कि बेटी कितनि सुंदर हे । वो ओरत उस लक्ष्मी को अपने घर ले गइ । ओर उस छोटी सि बेटी के साथ बेथाया । ओर सब लोग साथ मे खाने लगे जो कुच बना हुवा था अपस मे बाट दिया । लक्ष्मी कहने लगि कि आज तो बहुत अछा खाना बना था मुजे बहुत अछा लगा । अंधेरा बहुत हो चुका था इस लिये वो ओरत ने लक्ष्मी को कहा कि तुम आजके दिन अहि पे रुक जाव कल सुभे  चलि जाना लक्ष्मी ने कहा ठीक है ।

लक्ष्मी जि बहुत पसन्न हुवि वो ओरत ने जो सेवा कि अंधेरा बहुत हो चुका था सब लोग सो गये लक्ष्मी पुरे घर कि ओर देखा तो घर मे धन – दोलात आ गाया था । वो घर पुरि तरहासे चमक ने लगा । वो घर एक महेल बन गया था । लक्ष्मी ने वो छोटी सि लदकि के कान मे कहा कि कल तुम्हारि मा के साथ मंदिर आना मे तुम्हारि राह देखु गि पिपल के पेड के निचे । वो कहके चले गइ वो लक्ष्मी ।

सुबह वो ओरत उथि तो चारो ओर धन- दोलत दिख रहि थि ओर वो उस कि छोटी बेटी खेल रहि थि वो देखते हिवे खुस हो गइ । तबसे वो ओरत हर दिन उस छोटी बेटी को मंदिर मे ले जाया करती थी । लक्ष्मी माता अपने जो क्रुपा उस ओरत को दिखाइ इस प्रकार कि क्रुपा हम सभि लोग पे करे ।

डोस्तो मुजे यकिन है कि Lakshmi ji ki story आप को पसंदआयि होगि । यह Maa laxmi ji ki story in hindi आपको कोइ सुधार करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंत करके बाताये और आपको कहनिया Diwali ki kahani लिखने खा पसंद हो तो हमे Diwali story for kids या The Diwali laxmi maa ki story एमैल कर सक्ते हो |


Post a Comment

Previous Post Next Post