Ads

नमस्कार दोस्तो आप सभी का स्वागत है दोस्तो आज हम आपको बताने वाले है। Rajkumari ki Khanai Kids Stories के बारे मे आपको बहुत पसंद आयेगि । children stories

Short Stories for Kids Hindi


Rajkumari ki Khanai Kids Stories 


एक राजा था उस का एक छोटा सा राज्य था। सभि उस राज्य मे भिन भिन प्रकार के लोग रहते है राजा कि एक सुंदर राजकुमारि थि लेकिन उस राज-कुमारी को अजिब प्रकार कि बिमारि हो गई थि राजा ने कहि राज्य से वेदजि को बोलाया  लेकीन वो बिमारि का निराकणन नहि कर पाये

वो राजा राज-कुमारी को बहार नहि जाने देता था क्यु कि वो राज-कुमारी बिमार रहति थि और राजा के दुशमन काफि सारे थे इस लिये वो राज-कुमारी को महेल मे रखा करता था केवल राज-कुमारी महेल के गर्दन मे खेला करति थि सभि लोग राजा-कुमारि के चहिते थे राज कुमारि कि मुस्कुराते दिखने के लिये सभि लोग तदप रहे थे लेकिन वो राज-कुमारी महेल के गर्दन मे खर्गोस के साथ खेल के मुस्कुराति थि

वो राजा ने सोचा कि मे राज-कुमारी को राज्य मे गुमने के लिये ले चलता हु वो राज-कुमारी महेल कि चार दिवाल मे अकसर मायुस रहा करति थि महेल के गर्दन मे जाके कुच पल मुस्कुराति है एस लिये दुसरे दिन राजा उस राज-कुमारी को कुच सिपाइ के साथ मे लेता है और राज्य कि और शेहर कर ने निकाल चलता है वो राजा काफि जगह पे  ले जाता है राज-कुमारी को मुस्कुराते हुवे देखता है  



तब वो राजा राज-कुमारी को कहता है कि क्या हुवा क्यु मुस्कुरा रहि हो तब वो राज-कुमारी कहति है कि अपने आज एतिहासिक जगह दिखा के मेरा जिवान सफ्ल बाना दिया वो सुन के राजा कि अखे नम हो गइ तब राजा राज-कुमारी से वादा करता है कि मे तुम्हे हर दो-तिन दिन मे कहि गुमने के लिये ले चलु गा


साम होने को आइ और वो राजा राज-कुमारी को लेके महेल मे आजाता है और राज-कुमारी का चेहरा देख रहा हो ता है रजा ने कभि राज-कुमारी को मुस्कुराते हुवे बात करते हुवे एसा चेहरा नहि देखा था  राज-कुमारी के चेहरे पे अजिब रोनाक सि साइ हुवि थि एस लिये राजा ने सोचा कि आज से सभि प्रकार के अलग अलग माध्याम से राज-कुमारी को मनोरंजन कर वाने लगा और दोतिन दिन मे वो राज उस राज-कुमारी को कहि गुमने के लिये ले जाता है और राज-कुमारी को कुच सिखने मिले इसा करता रहता था  

एक दिन राज-कुमारी  बाहुत बिमार हो गइ थि और वो राजा से कहने लगि कि अप मुजहे मुस्कुराते देख ने के लिये तदप रहे थे इस लिये मुजे कफि अछि अछि जगह पे ले के गये और मुजे बहुत अछा भि लगा अपने जो किया मुजे बहुत अछा लगा मेरा जिवान सफल बना दिया एसा बोल के राज-कुमारी अंतिम समय मे राजा को मुस्कुराते हुवे चलि गइ

children’s story Moral : जिवान जिने के लिये खुसिया धुधते रहना चाहिये ना जाने कहि पे मिल जाये

 

 rajkumari ki short story for kids 


राजा की दो राजकुमारी थी । उस मे से एक बहुत सुदर थी और दुसरी कम सुंदर थी । अकसर वो सुंदर होने से घंमद दिखाती रहती थी । एक दीन दोनो बहने बात कर रही थी एक अयनेमे देखते हुवे कह रही थी मे बहुत सुंदर हु । तो दुसरी राजकुमारी कहती है मुझे पता है आप बहुत सुंदर हो । तब राजा दोनो कि बात सुनके । राजा ने महेल मे एक कार्यक्रम रखा । कही जगय के राजा और राजकुमार आये थे ।

दोनो राजकुमारी एक राजकुमार को देख रहे थे तब एक ने कहा ये राजकुमार कितना सुंदर है । हा बहुत सुंदर है मुझे पता हे ये मुझे ही चुनेगा । क्यु की तुम्ह तो कम सुंदर हो इस लीये तुम्हे मना कर देंगा । तब राजकुमार ने सुंदर दिखने वाली को रिस्ता भेजा ।

वो दुसरी राजकुमारी ये ना दिख पायी इस लीये वो जंगल के रास्ते जाने लगी । तब राजकुमारी को एक भिखारी दिखाई देता है उसे पुछती है ये जंगल का रास्ता किस तरफ जाता है । तब भिखारी ने रास्ता दिखाया और कहा सभी की मदद सच्चे मन से कीया करो ।

राजकुमारी रास्ते मे चल रही थी उसे एक जाडी के पिछे आवाज सुनाई दी और वो तुरंत वो देख ने गई तब उसे एक हिरण फसी हुवी दिखाई दी । उसे छुडाने का बहुत प्रयास कीया राजकुमारी ने । वो हिरण छुटने के बाद उस राजकुमारी को कहता हे तुमारा दुसरे प्रती भाव आच्छा था किसी की जान बचाना । राजकुमारी ने कहा तुम्ह बोल सकते हो । हिरण ने के हा मे बोल सकता हु अब तुम्हे इस रास्ते से आगे जाना चाहीये ।





जेसे जेसे राजकुमारी आगे बडती रही उसे एक जार मे हंस फसा हुवा दिखाई दीया । राजकुमारी ने तुरंत हंस को जार मे से निकाल दीया । तब हंस ने राजकुमारी से कहा तुम्ह ने मेरी जान बचाई है । तुम्ह  दुसरे के प्रती उदारता रखना । राजकुमारी ने कहा तुम बोल सकते हो । हंस ने कहा जि हा मे बोल सकता हु अब तुम्ह इस रास्ते ते आगे की और जाव ।

राजकुमारी धिरे धिरे आगे बडती गई उसे रास्ते मे एक पेड मिला वो सुखा हुवा था राजकुमारी ने तुरंत तालाव के पास जाके पानी ले आती है और उस पेड को पानी दिया । तुरंत पेड हरा भरासा हो गया । पेड ने राजकुमारी से कहा तुम्ने मुझे पानी पिलाया है । राजकुमारी ने कहा आप बोल सकते हो । पेड ने कहा जि हा मे बोल सकता हु । पेड ने राजकुमारी से कहा मे आपको एक उपहार देना चाहता हु आप इस तालाव मे जाके एक दुब्की लगानी होगी ।

राजकुमारी तालाव मे जाके दुब्की लगाती है और दुब्की लगाते ही वो सुंदर दिखने लगती है । राजकुमारी पेड के पास जाके कहती है ये कैसे हुवा । पेड ने कहा ये मेरे तरफ से उपहार है । आपने उदार मंन से मेरी मदद कीया है इस लीये मेंने आपकी मदद कीया है ।

राजकुमारी वहा से महेल कि तरफ आने लगी तब उसे हंस दिखाइ दीया हंस ने राजकुमारी को एक अपना पंख दीया और कहा जब भी मेरी मदद की जरुरत हो तब आप इस पंख गुमाके मुझे याद करना मे तुरंत ही आपके पास आ जावुगा ।

और राजकुमारी वहासे आगे चली तब उसे हिरण दिखाई दिया । हिरण ने उसे कहा आप इसी तरहा से सभी कि मदद कीया करना । मेरी जब बी मदद कि जरुरत होगी तब मुझे आवाज लगा देना मे आ जावुगी ।  

राजकुमारी वहा से आगे चलने पर भिखारी मिला । राजकुमारी ने उस भिखारी का आभार कीया और वो मेहल मे लोट आई । उसे अपनी बहेन देखती है तो वो हेरान हो जाती है ये कैसे हुवा । बहेन ने कहा आप तो अब बहुत सुंदर दिख रही हो ।

राजकुमारी ने अपनी बहेन से यह सुंके बहुत ज्यादा खुशी हुवी । वो मंनो मंन बहुत खुश होने लगी । 




दोस्तो मुजे यकिन है कि rajkumari ki short story for kids को पसंद आयि होगि short moral stories for kids पको कोइ सुधार करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंत करके बाताये और आपको kids short stories rajkumari लिखने खा पसंद हो तो free short stories for kids या short stories for kids with morals एमैल कर सकते हो | rajkumari kids story

Short Stories For Kids Pdf 


और नया पुराने

Display ads