Moral of Andhi Bhikhari Story को बताने वाले है। Andhi Bhikhari Moral Stories आपको बहुत पसंद आयेगी। 

Aandhi Bhikhari Story with Moral in Hindi


Moral Of Andhi Bhikhari Story


कहानि है एक अंधी भिखारिन दादिमा कि वो दादि मा कुच ना दिखाइ देनि कि वजाह से वो कुच काम नहि कर पाति थि वो घर घर जा के भिख मंगति थि जो कुच भिख मे मिलता है उसि से काम चला लेति थि खाना कुच पैसे जो भि मिलता था वो  खुस हो जाति थि

एक दिन उसके घर ननहा लदका बेथा हुवा है वो रो रहा था उस दादि मा को सुनाइ देता है और उस लदके को गोद मे लिया और जो कुच खाना था वो दिया तो वो लदका रोना बंध कर दिया

उस गाव मे एक मुखिया रहता था वो दयालु और मेहनति था लोग अकसर उस के पास पैसा रख ने आते थे उस अंधि दादिमा के पास भि बहुत सारा पैसा हो गया था लेकिन पता नहि था कि कहापे रखु पैसा उसे दर था कि कहि मेरा पैसा चोरि ना हो जाइ




इस लिये वो दुसरे दिन उस मुखिया के घर जाति है पैसा छुपा के मुखिया ने कहा कि क्या है इस मे अंधि दादिमा  ने कहा कि मेरि जामा पुजि है इस मे मुखिया ने नाम पुछा और जो पैसा था वो अपने नोकर को कोतरि मे रख ने के लिये कहा और काफि समय खुसि खुसि से रह रहि थि दादि मा एक दिन उस का लदका बिमार हो गया वेद जि को बताया ,जादु तोटके करवाये लेकिन खुच फरक नहि पदा तबि उस दादि मा को याद आता है कि जो मुखिया के पास पैसा जामा  किया थे अब काम अये गे

अंधि दादि मा उस मुखिया के पास जाति है और पैसा मंगति है लेकिन उस मुखिया कहता है कि अपने कभि नहि पैसा जामा करवाया हि नहि है. दादि मा ने कहा कि मे काफि समय पहले आयि थि और आपको पैसा जमा करवाया था मुखिया ने अपने नोकर को कहा कि उस दादि मा का नाम चेक करो तो नोकर ने चेक करके कहा कि कोइ इस नाम से नहि है और वो मुखिया बोला कि तुम यहा से चलि जाव नहि तो मेरे नोकर बोलाता हु  

वो अंधि दादि मा कुच कहति है और वहा से अपने घर लोत अति है उस का लदका बहुत बिमार  हो जाता  है कुच दवा ,दरु ना मिल पानि कि वजाह से वो अंधि दादि मा मनो मन उस मुखिया जि को कहति है में ने तो कुच पैसे मंगे थे मेरे हितो पैसे थे वो तब दादि मा ने उस लदके को गोद मे उथा के मुखिया जि के घर के बहार बेथ गइ नोकर देखा और मुखिया जि को कहा मुखिया जि ने कहा नोकर को उसे यहा से भगा दो नोकर ने अंधि दादि मा से यहा से जाने को कहा लेकिन नहि गइ

मुखिया जि आते है और उस अंधि दादि मा के गोद मे लकदा देखता है तो लगता हे कि तो मेरा मोहन हे 7 साल पहले मेले मे गुम हो गया था मुखिया जि ने उस लदके को  उथाया और देखा तो लदके का शरिर बहुत जोर से तप रहा था नोकर को तुरत हि वेदजि को बुला ने को कहा वेद जिने दावा दिया और वो ठीक हो गया।

जेसे हि वो अंख खोलता है तो मा कहता है वो मा उसे दिखाइ नहि देति है वो महुस हो जाता है और अंख बंध कर देता है तब मुखिया जि को लगता है कि उस अंधि दादि मा को धुन्ध रहा है तब वो मुखाया जिने अपने नोकर को बोलाया और उन दादि मा को बोला ने को कहा तब वो अंधि दादि मा आति है और वो लदका देखता हे और खुस हो जाता है

तब मुखिया को लगा कि वो लदका उस दादि मा बगेर रह नहि सकता इस लिये मुखियाजि ने अंधि दादि मा को अपने साथ हि रह ने के लिये कहा और जो पैसे लिये थे वो अंधि दादि मा को दे दिये

उस मुखियाजि को बहुत पस्तावा हो रहा था इस लिये सभि गाव के पैसा लिये थे वो सभि को दे दिया और सभि लोग राजि खुसि से अछि तरहा रहने लगे

Aandhi Bhikhari Moral :- बुराइ का कर्म एक ना एक दिन भोगत ना पदता है इस लिये कभि किसि के साथ बुराइ नहि करनि चाहिये   





डोस्तो मुजे यकिन है कि Aandhi Bhikhari ki Kahani अप को पसंदअयि होगि Motivational stories aandhi bhikhari  अपको कोइ सुधार करने योगियाता लग्ता है तो हमे कोम्मेंत करके बाताये और अपको Aadhi bhikhari Stories  लिखने खा पसंद हो तो हमे Aandhi bhikhari bedtime stories या Aandhi Bhikharin Rabindranath Tagore एमैल कर सक्ते हो  short stories of Rabindranath Tagore

     

2 Comments

Post a Comment

Previous Post Next Post

Display ads